इसे जरूर पढ़े, बहुत अच्छी बातें हिन्दी मे

जब इंसान पर कोई आपत्ति आता हैं
तब इंसान भगवान को दोषी बनाता हैं
जब इंसान की ज़िंदगी सुखमय व्ययतीत
होता हैं, तब तो भगवान का सुक्रिया
नहीं करता, तब भगवान से क्यू नहीं कहता
की, आपकी कृपा से हो रहा हैं भगवान
तब क्यू भूल जाता हैं भगवान को, जब
उसकी ज़िंदगी सुखमय होती हैं,

अगर तुम सुख मे भगवान को याद नहीं कर सकते
तो दुख मे भी भगवान की निंदा करने का कोई हक नहीं हैं तुम्हें,

मेरा कहने का मतलब ये नहीं है की
भगवान आपके साथ नहीं हैं, भगवान
तो हम सबके साथ रहते हैं, जिस
तरह मा बाप हमे जन्म देकर कभी नहीं
भूलते, उसी तरह भगवान भी हमे धरती
पर भेज कर कभी नहीं भूलता,
वो हमेशा हमारे साथ होता हैं,

दोस्तों. मैं आप लोगों को बस इतना
कहना चाहता हूँ की, भगवान की भक्ति करो,
अगर भगवान की भक्ति नहीं करना चाहते तब भी कोई बात नहीं,
लेकिन किसी भी तरह किसी भी धर्म के भगवान की निंदा मत करो,
प्लीज .. आप लोगों से यही गुजारिस करता हूँ,

कुछ लोग भगवान की भक्ति तो करते हैं
लेकिन दूसरे धर्म के भगवान को अपशब्द बोलते हैं,

ये तो वही हुआ की, एक पैर की पूजा करते हैं
और दूसरे पैर पर कुल्हाड़ी मरते हैं, हमे ऐसा नहीं
करना चाहिए, क्युकी नाम अलग हैं भगवान नहीं

अगर आप किसी धर्म के भगवान को नहीं मानते हैं
तो कोई बात नहीं परंतु किसी धर्म के भगवान की निंदा करके
उल्टा अपने ही भगवान को लज्जित मत करो,

जब किसी इंसान के साथ कुछ अनहोनि हो जाती हैं,
तब इंसान सोचने लगता हैं, की मेरे साथ ही एसा क्यों हुआ,
मैंने कभी किसी का बुरा नहीं चाहा न किया फिर मेरे साथ एसा क्यों,

तब इंसान ये बात भूल जाता हैं की भगवान के पास हमारे
जन्मों जन्म का कर्मकुंडली होता हैं, जब किसी इंसान के
साथ कुछ अनहोनि होती हैं, तो उसके दो कारण होते हैं,
1>हमारे अतीत मे किए गए पापों से, 2> हमारे भविष्य को सुधारने के लिए,

लोग छोटी छोटी बातों पर भगवान की निंदा करते हैं,
लोग दूसरे धर्म के भगवान की निंदा करके दूसरे तरफ
से अपने ही भगवान की नींद करते हैं, भगवान क्या
सोचते हैं ये कोई नहीं सोचता, और कहेंगे भगवान मेरे
बारे मे क्यू नहीं सोचता, एक बात हमेशा याद रखना,
जिस दिन आप भगवान के बारे मे सोचना सुरू करोगे,
उस दिन से भगवान भी आपके बारे मे सोचना सुरू कर देगा

is artical ko share karne se aapka koi haani nahi hain!
han kisi ko sabak jarur mil sakta hain! follow karenge to
phir mulaqat hogi

दोस्तों आर्टिकल कैसा लगा कॉमेंट करके जरूर बताए

Posted In

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.